भारतीय त्वचा की रंगत के अनुसार श्रृगांर के 10 अद्भूत तरीके



भारतीय त्वचा की रंगत के अनुसार सही श्रृगांर करना अत्यंत कठिन हो सकता है इसलिए आपको अनेक चीजों पर ध्यान देना चाहिए। मैचिंग प्राइमर और कंसीलर एक स्वस्थ त्वचा की देखभाल के लिए आवश्यक हैं साथ ही वह सभी रंग जो सांवली रंगत की त्वचा के लिए आवश्यक है। अगर आप ऐसा महसूस करती हैं कि श्रृगांर आपके लिए एक खेल की तरह है और इसके लिए आप कुछ नया सीखती हैं तो यह लेख आपके लिए है। यहाँ भारतीय त्वचा की रंगत के अनुसार श्रृगांर के 10 तरीके बताए गए हैं।

  1. त्वचा की देखभाल का नियम

ध्यान दें कि आपकी त्वचा नियमित देखभाल कोमल तथा मौसम के अनुरूप है। कभी-कभी त्वचा को अधिक नमी की आवश्यकता होती है तब आपको तैलीय द्रव (लोशन) का अधिक प्रयोग करना चाहिए। ध्यान दें आप अपनी त्वचा के साथ अधिकता नहीं कर रहे हैं। कोमल त्वचा की देखभाल के नियम बनाएँ जो आपको उचित लगे और अधिक कुछ किए बिना पर्याप्त श्रृगांर करें।

  1. त्वचा की रंगत

एक खूबसूरत श्रृगांर वह होता है जो आपकी त्वचा की रंगत से मिलता हो, त्वचा की रंगत जाने बिना यह असंभव है। यदि आप निष्ंिचत नहीं हैं तो अलग-अलग रंग आजमाएँ या किसी की मदद लें। अपने हाथ पर रंग का परीक्षण न करें इसके स्थान पर चेहरे की त्वचा की गर्दन से मिलने के कारण उस पर परीक्षण करें। आपके लिए त्वचा की रंगत जानना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपको मैचिंग कंसीलर, फाउंडेशन और प्राइमर चुनने में मदद करता है। इसके बाद विभिन्न रंगों के साथ आप श्रृगांर में नया प्रयोग कर सकते हैं।

  1. प्राकृतिक भौंह

चाहे आप एक षानदार षाम के लिए श्रृगांर कर रहे हैं या साधारण, भौंह महत्वपूर्ण हैं। प्राकृतिक घनी भौंह हमारी प्रवृत्ति है जो कहीं नहीं जाती। इसके लिए आई शैडो का प्रयोग करें जो आपकी प्राकृतिक भौंह की तुलना में चमकीला हो और इसे भौंह में भरने के लिए पतला ब्रश हो। भौंह के नीचे सफेद आई पेंसिल का प्रयोग कर इसे उभारा जा सकता है।

  1. गो गोल्ड

सोना सांवली रंगत की त्वचा के लिए एकदम उपयुक्त है। इसलिए आप इसका प्रयोग कर सकते हैं। आप अपनी पलकों पर सुनहरा आई शैडो लगा सकते हैं लेकिन आप इससे आगे भी कर सकते हैं। इसका हाईलाइटर के रूप में प्रयोग कर अपने पूरे चेहरे पर खूबसूरत सुनहरी चमक बना सकते हैं। बस इसे अपने चेहरे के उन सभी हिस्सों पर करें जिससे चेहरा हाईलाइट हो।

  1. काले घेरों का खात्मा

यह एक अद्भुत उपाय है जिसकी सहायता से आप अपनी आँख के नीचे के काले घेरे को ढाँक सकते हैं। इसके लिए आपको लाल-नारंगी लिपिस्टिक और कुछ कंसीलर की आवश्यकता होगी। इसका उपयोग काले घेरे को बेअसर कर देगा फिर आप उस पर कंसीलर लगाएँ। यह सभी रंगत की त्वचा के लिए चमत्कार है। अन्यथा आप गाढ़े रंग स्पाॅट कंसीलर प्रयोग करें इसका असर भी समान होगा।

  1. चिक बोन्स की रूप रेखा बनाएँ

वास्तव में चिक बोन्स की रूप रेखा बनाना चैंकाने वाला परिणाम देता है। चाहे आकस्मिक श्रृगांर हो या विषेश कार्यक्रम के लिए चिकस् को परिभाशित करना आवश्यक है। आप अपनी त्वचा की रंगत या एक विषेश कंटूरिंग क्रीम की तुलना में तांबई रंग के कुछ गहरे रंगों का प्रयोग कर सकते हैं।

  1. अपने आई शैडो को पॉप बनाएँ

एक ऐसा आई शैडो ढूँढना कठिन है जो भारतीय त्वचा के लिए उपयुक्त हो। भारतीय त्वचा के लिए उज्जवल रंग सही है लेकिन इसका प्रयोग इस रंग के कारण कम है। आप सरलता से आई शैडो की नींव के लिए मोटे सफेद आई लाइनर का प्रयोग कर बदलाव ला सकते हैं। यह आपकी आँखों के रंग को बढ़ा देगा जिससे आपकी सुंदरता में सजीवता आएगी।

  1. लिपिस्टिक के नए रंगों का प्रयोग करें

जब लिपिस्टिक की बात आती है तो लाल रंग को प्रमुखता दी जाती है। लेकिन आप सांवली भारतीय त्वचा के लिए अन्य रंगों का प्रयोग भी कर सकते हैं। देखो कितना रहस्यमयी है- होठों पर चमकीले रंग की नारंगी लिपिस्टिक, स्मार्ट कैजुअल दिखने हल्का गुलाबी, नवीनता की लहर के लिए फ्यूष्यिा या सामान्य दिखने के लिए प्राकृतिक रंगत की लिपिस्टिक चुन सकते हैं, जो पोशाक से मेल खाए।

  1. गहरे आई लाइनर का प्रयोग करें

यह भारतीय महिलाओं को तेजस्वी रूप प्रदान करता है। गहरे आई लाइनर का प्रयोग भारत में पारंपरिक है यह गहरे रंग की महिलाओं के लिए उपयुक्त है। आप एक उत्तम स्तर के आई लाइनर का प्रयोग कर सकते हैं। साथ ही गहरे भूरे रंग के आई लाइनर को चुन सकते हैं। गाढा नेवी ब्लू रंग भी आपकी आँखों के लिए चमत्कारी हो सकता है।

  1. बुद्धिमता से आई शैडो चुनें

भारतीय त्वचा के लिए तांबई, बैंगनी, भूरे या सुनहरे रंग के आई शैडो के रूप में उपयुक्त है और आप निश्चित रूप से इन भड़कीले रंगों का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन सफेद रंग के आई शैडो से दूर रहें यह सांवली रंगत से मेल नहीं खाता।