त्वचा की समस्याओं के 5 घरेलू इलाज



त्वचा की अगर ठीक से देख-भाल न हो तो वह रूखी और दाग-धब्बे वाली हो जाती है। इसकी प्राकृतिक नमी समाप्त हो जाती है और चेहरा बेजान सा हो जाता है। ऐसा होते ही लोग तरह-तरह की क्रीम और रासायनिक उपचार आरंभ कर देते हैं। जबकि हमारे घर में अनेक ऐसी वस्तुएँ हैं जो न केवल त्वचा का उपचार कर सकती हैं वरन उनके उपयोग से चेहरा दमकने लगता है।

अधिकांश लोग फलों के छिलके को फेंक देते हैं लेकिन सच ये है कि अगर इनका रोजाना प्रयोग किया जाए तो ब्यूटी पार्लर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

संतरा– 

संतरे के छिलके को सुखा कर पीस लें। इस पाउडर में दो चुटकी हल्दी और गुलाब जल मिलाकर इसका लेप बना कर चेहरे पर लगा लें और 15 मिनट बाद धो दें। यदि हम चाहें तो संतरे के छिलके के पाउडर में हल्दी के साथ एलोवेरा जैल मिलाकर भी लेप बना सकते हैं। संतरे के छिलके में एंटी आॅक्सीडेंट के साथ अन्य तत्व भी होते हैं, जो त्वचा को पोषण देते हैं। इसके प्रयोग से त्वचा निखर जाती है।

पपीता– 

अगर त्वचा रूखी है और चेहरे पर मुहाँसे हैं तो पके पपीते का एक टुकड़ा लेकर उसे मसल लें और उसका पैक चेहरे पर लगाएँ। हम इसका छिलका भी चेहरे पर रगड़ सकते हैं। इसमें ए एच ए और पपाइन नामक एंजाइम होता है जो त्वचा को साफ करने के साथ-साथ मृत त्वचा भी हटाता है। इसके नियमित प्रयोग से चेहरे के काले धब्बे और निशान मिट जाते हैं। पपीता खाने से भी त्वचा निखरती है।

बेसन– 

घरेलू उपायों के द्वारा त्वचा की देखभाल के लिए सबसे अधिक बेसन का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रयोग हर तरह की त्वचा पर किया जा सकता है। बेसन में शहद, दूध और हल्दी मिलाकर इसका लेप चेहरे पर लगा कर 20 मिनट बाद धो लें। इसके प्रयोग से चेहरे पर निखार के साथ नमी भी आती है। इसमें हल्दी गुलाब जल मिला कर लगाने से त्वचा की रंगत साफ होती है और कील-मुहाँसे भी दूर होते हैं। खुले रोम छिद्रों को बंद करने के लिए गुलाब जल और बेसन में खीरा कद्दूकस करके लगाना चाहिए। यदि चेहरे के अनचाहे बाल हटाने हों तो बेसन में सरसों का तेल मिला कर चेहरे पर मलें। इससे अनचाहे बाल हटेंगे।

दूध– 

दूध के प्रयोग से त्वचा की अनेक समस्याएँ हल होती हैं। यह एक टोनर है। कच्चे दूध में नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाएँ। सूखने पर गर्म पानी से धो लें त्चचा मुलायम हो जाएगी। दूध में बादाम भिगाकर उसे पीस कर लगा लें सूखने पर रगड़ कर उतार दें। इससे टैनिंग दूर होगी। दूध में चंदन मिलाकर इसके नियमित प्रयोग से रंग साफ होगा। मुल्तानी मिट्टी में दूध और गुलाब जल मिलाकर लगाने से मुहाँसे में आराम मिलेगा। चेहरे पर चमक लाने के लिए कच्चे दूध के साथ चीनी मिलाकर लगाएँ। सूखने पर गरम पानी से धो दें। 

नींबू– 

हर मौसम में नींबू मिलता है। यह एक एंटी आॅक्सीडेंट है। इसमें विटामिन सी होता है। इसके सेवन से हम अनेक रोगों से बचते हैं। इसका प्रयोग यदि त्वचा पर किया जाए तो वह भी लाभ दायक है। मुहाँसे और ब्लैक हेडस में नींबू के रस में पानी मिलाकर उस पर लगाने से यह समस्या दूर हो जाती है। इसके रस को ग्लिसरीन और गुलाब जल में मिलाकर सिरम बनाया जाता है जिसे लगाने से शीतकाल में रूखी त्वचा से छुटकारा मिलता है, साथ ही दाग-धब्बे दूर होते हैं। इसके रस में ब्लीचिंग की क्षमता होती है। गुलाब जल में फिनाइलेथेनाल होता है जो प्राकृतिक एस्ट्रिजेंट का कार्य करता है और ग्लिसरीन त्वचा में पानी की मात्रा का संतुलन बनाए रखती है। जब यह सभी एक संतुलित मात्रा में त्वचा पर लगाते हैं तो त्वचा की समस्याएँ समाप्त हो जाती हैं।

यदि आप इन सभी घरेलू नुस्खों का नियमित प्रयोग करेंगे तो आपकी त्वचा हमेशा निरोगी रहेगी।