इंदिरा गांधी के विषय में 9 रोचक तथ्य




 

इंदिरा गांधी को अपने संपूर्ण जीवन में कई रूपों में जाना जाता था। 70 के दशक के दौरान भारत की लौह महिला, एकमात्र महिला प्रधानमंत्री, कांग्रेस की आत्मा। वह जवाहर लाल नेहरू की बेटी थीं और अपनी विरासत बनाने के लिए भारतीय इतिहास में सबसे अधिक स्मरणीय नामों में से एक रहीं। हालांकि ये इंदिरा गांधी के विषय में सामान्य रूप से ज्ञात तथ्य हैं। लेकिन हमने उनके व्यक्तित्व और एक प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ के रूप में उनके कौशल को समझने में आपकी सहायता के लिए कुछ और दिलचस्प बातों का खुलासा किया।

 

 

1. उन्होंने पी.एम. के कार्यालय में पी ए के रूप में कार्य किया-
जब उनके पिता जवाहर लाल नेहरू ने पद भार संभाला, वह एक युवा वयस्क थें हालांकि नेहरू ने इंदिरा के उज्जवल चरित्र और बुद्धि की बदौलत उन्हें अपने पहले निजी सहायक के रूप में चुना। वहाँ से वह सबसे अच्छे हाथों में से एक से शासन कला सीखने गईं।
 

 

2. पूर्व पी.एम. दिवस-
प्रधानमंत्री की भूमिका निभाने से पहले उन्होंने सूचना एवं प्रसारण विभाग में मंत्री के रूप में कार्य किया। यह लालकृष्ण आडवानी के मंत्रिमंडल के दौरान एक संक्षिप्त अवधि के लिए हुआ।

 

 

3. गांधी कहानी-
लोग हमेशा महात्मा गांधी के परिवार से संबंधित होने के लिए इंदिरा गांधी को गलत कहते हैं। यद्यपि नेहरू परिवार हमेशा महात्मा गांधी के परिवार से निकटता से जुड़ा था। लेकिन इंदिरा ने इनसे यह नाम प्राप्त नहीं किया था। उनके पति फिरोज गांधी, प्रसिद्ध गांधी परिवार से संबंधित नहीं थे।

 

4. रिचर्ड निक्सन के साथ उनका झगड़ा-
अपने कार्यकाल की अवधि में अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने सोवियत संघ के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करने का निर्णय करने के बाद इंदिरा गांधी को ‘पुरानी चु ड़ैल’ कहा था। यह भारत और पाकिस्तान के बीच उच्च तनाव और पक्ष चुनने के युग के दौरान था। निक्सन चाहते थे कि पाकिस्तान को अमेरिका का समर्थन मिले इसलिए उसने अपने सहयोगी के रूप में अपने अंतर्राष्ट्रीय दुश्मनों को चुना।

 

5. राष्ट्रपति दोस्त-
इंदिरा ने संयुक्त राज्य अमेरिका की अध्यक्ष लिंडा जानसन के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध बनाए रखे, जो अक्सर उनसे मिलने जाते थीं और उनके द्वारा आयोजित रात्रिभोज में सम्मिलित होती थीं। नारी शक्ति, हम सभी को एक साथ लाती है। क्या मैं सही हूँ?

 

 

6. उन्होंने ब्रिटिश गुड़िया को जला दिया-
अपने पिता और संपूर्ण राष्ट्र को ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ संघर्ष करते देख इंदिरा ने एक अत्यंत दृढ़ चरित्र विकसित किया। कम उम्र से ही उन्होंने ब्रिटिश सामानों का बहिष्कार करना सीख लिया था। क्योंकि उन्होंने अनुभव किया कि उन सामानों को स्वीकार करने से ब्रिटिश अर्थव्यवस्था ताकतवर होती है। वह अपने स्वयं के खिलौने, जो इंग्लैंड में बने थे उन्हें जलाने के लिए जानी जाती हैं।

 

7. उन्होंने पहला परमाणु परीक्षण किया-
किसी के मन में यह संदेह नहीं है कि इंदिरा गांधी विविध क्षेत्रों में दूरदर्शी थीं। वह भारत को वैश्विक परमाणु शक्ति बनाने की दिशा में कदम उठाने वाली पहली नेता थीं जिन्होंने अंततः पोखरन में स्माइलिंग बुद्धा नामक सफल परमाणु बम परीक्षण किया।

 

8. उनकी अपनी पार्टी-
जब कि हर कोई इंदिरा गांधी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के चेहरे के रूप में जानता था उन्होंने 1978 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई। इसे कांग्रेस आई कहा गया, जिसके लिए वह बदनाम हुईं। 1980 के लोकसभा चुनावों में वे विजयी हुईं लेकिन उसके समाप्त होने के बाद उनकी कड़ी निंदा हुई।

 

 

9. मृत्यु-
1984 में सिख समुदाय के साथ झगड़े को लेकर उनके निजी अंगरक्षकों द्वारा उनकी हत्या कर दी गई। उनकी समाधि दिल्ली के राजघाट में है।